सबसे खतरनाक होता है मुर्दा शान्ति से भर जाना

LATEST:


गुरुवार, 22 अप्रैल 2010

सेहत से 'खेल' रहे प्राइवेट कर्मचारी

घटना एक - 17 अप्रैल 2010 को राजेन्द्र कृषि विश्वविद्यालय के गृह विज्ञान महाविद्यालय की सहायक प्राध्यापिका डा. अरुणिमा कुमारी के 48 वर्षीय पति ललन चौधरी ने पंखे से लटक कर आत्महत्या कर ली। चौधरी एक निजी मोबाइल कंपनी में जोनल आपरेशनल मैनेजर के पद पर दरभंगा में कार्यरत थे। प्रो. अरुणिमा के मुताबिक उनके पति इन दिनों कंपनी के काम से मानसिक तनाव में रहते थे। पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है।

घटना दो - 16 अप्रैल 2010 को समस्तीपुर के शेखोपुर गांव में पेड़ से लटका दरभंगा निवासी गिरेन्द्र साह का शव बरामद हुआ था। मृतक ने अपने सुसाइट नोट में कह रखा है कि वह लोक शिक्षक था। उसे कुछ साल पहले हटा दिया गया। इस कारण वह आत्महत्या कर रहा है। पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है।यह दोनों ताजा घटनाएं अस्थाई जॉब करने वाले कर्मचारियों से जुड़ी हैं। एक प्राइवेट कंपनी का कर्मचारी रहा है, तो दूसरा सरकारी स्कूल का संविदा शिक्षक। यानी दोनों के जॉब की कोई गारंटी नहीं। एक की आत्महत्या का कारण बना काम का दबाव तो दूसरे की वजह बनी बेरोजगारी। दरअसल, प्राइवेट जॉब करने वालों की जिंदगी में तनाव दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है। इसकी वजह है प्रतिस्पद्र्धा व लक्ष्य पूरा करने की होड़ में खुद पर ध्यान नहीं दे पाना, हमेशा तनावग्रस्त रहना और भरपूर नींद नहीं ले पाना। पहले ऐसी घटनाएं सिर्फ बड़े शहरों में ही होती थीं, लेकिन अब उत्तर बिहार भी जद में है। मुजफ्फरपुर समेत सभी छोटे शहरों में प्राइवेट कंपनियां पधार चुकी हैं। इन्होंने हजारों हाथों को काम भी दे रखा है, पर जॉब में टिके रहने के लिए जिस तरह टारगेट मिल रहा है उससे कर्मचारियों की जिंदगी ही बदरंग होती जा रही है।

सर्वे भी बयां कर रहा सच्‍चाई
चेम्बर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्री आफ इंडिया द्वारा जारी एक हेल्थ केयर स्टेट्स रिपोर्ट में कहा गया है कि 24 फीसदी कारपोरेट कर्मचारियों में लक्ष्य और काम के दबाव के कारण हाईपरटेंशन, शुगर और अन्य बीमारियां हो रही हैं। मुजफ्फरपुर शहर के भी कई वरीय डाक्टर इस बात को स्वीकार कर रहे हैं। इनकी मानें तो काम के साथ शरीर का ख्याल नहीं रखने के कारण समस्याएं बढ़ रही हैं। तनाव की अधिकता से आत्महत्या की प्रवृति चिंताजनक है।

'' लंबे समय तक आफिस में काम करने के बाद सिर्फ 5-6 घंटे की नींद से हम फ्रेश महसूस नहीं करते। इससे थकान व सिर दर्द की समस्या होती है। यदि हालात ऐसे ही रहे तो 50 वर्ष में ही शरीर रिटायर हो जाएगा। '' - ओम प्रकाश, कारपोरेट कर्मी

'' लक्ष्य निर्धारण वाले काम में दिन और रात का फर्क नहीं रहता। सारा ध्यान लक्ष्य पर टिका रहता है। जिसके कारण नींद पूरी नहीं होती। इससे हमेशा तनाव एवं सुस्ती बनी रहती है। '' - संतोष कुमार राज, एलआईसी अभिकर्ता

'' काम की अधिकता के कारण सिर बोझिल हो जाता है। दर्द की दवा भी लेनी पड़ती है। 5 से 6 घंटे की नींद ही रोज की दिनचर्या बन गई है। इसके कारण कभी-कभी आत्मविश्वास भी डिगने लगता है। '' - सविता सिंह, कारपोरेट कर्मी

'' काम के दबाव में शहर के लोग पूरी नींद नहीं ले रहे है। इसके कारण थकान, सिर दर्द, सुस्ती, चिड़चिड़ाहट आदि समस्याएं सामने आ रही है। अत्यधिक आत्मविश्वास कमजोर होने के कारण व्यक्ति में आत्महत्या करने की प्रवृत्ति भी आ रही है। तनाव से बचने के लिए लोगों को 6 से 7 घंटे की नींद के साथ योग की भी आदत डालनी चाहिए। ''
- डा. गणेश प्रसाद सिंह, वरीय मनोचिकित्सक, एसकेमेडिकल कालेज

1 टिप्पणी:

  1. अच्छी विवेचना के लिए धन्यवाद / वैकल्पिक मिडिया के रूप में ब्लॉग और ब्लोगर के बारे में आपका क्या ख्याल है ? मैं आपको अपने ब्लॉग पर संसद में दो महीने सिर्फ जनता को प्रश्न पूछने के लिए ,आरक्षित होना चाहिए ,विषय पर अपने बहुमूल्य विचार कम से कम १०० शब्दों में रखने के लिए आमंत्रित करता हूँ / उम्दा देश हित के विचारों को सम्मानित करने की भी वयवस्था है / आशा है आप अपने विचार जरूर व्यक्त करेंगें /

    उत्तर देंहटाएं